0657-22-33331
102, Nisha Tower, 3rd Floor, Thakurbari road, Aam Bagan, Sakchi, Jamshedpur
support@vinayiasacademy.com

Jpsc mains

hello world
दिल्ली में भारतीय सेना के द्विवार्षिक सम्मेलन की शुरुआत # जाने विस्तार पूर्वक
November 1, 2020

दिल्ली में भारतीय सेना के द्विवार्षिक सम्मेलन की शुरुआत # जाने विस्तार पूर्वक

दिल्ली में भारतीय सेना के द्विवार्षिक सम्मेलन की शुरुआत हुई जाने विस्तार पूर्वक? सेना कमांडरों का सम्मेलन नई दिल्ली में शुरू हो गया। 27 से 29 मई 2020 तक यह सम्मेलन का पहला चरण आयोजित...
Read more
झारखंड लोक सेवा आयोग के नये अध्यक्ष # झारखंड में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की शुरुआत
October 31, 2020

झारखंड लोक सेवा आयोग के नये अध्यक्ष # झारखंड में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की शुरुआत

झारखंड के किस जिले में कैंसर के इलाज के लिए सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की शुरुआत की जा रही है?बोकारो जिले में कैंसर के इलाज के लिए सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की शुरुआत की जा रही है।...
Read more

झारखंड के किस जिले में पर्यावरण को लेकर नई योजना की शुरुआत हुई है? झारखंड में पर्यावरण अनुकूल स्थिति किन जिलों में है?

By vinay ias team son झारखंड के किस जिले में पर्यावरण योजना की शुरुआत की जाएगी?झारखंड के रांची जिले में पर्यावरण योजना की शुरुआत की जाएगी। इस योजना के तहत कूड़े कचरे ,बायो मेडिकल वेस्ट,...
Read more

भारत की सिंचाई प्रणाली कैसी है? भारत के किन राज्यों में सिंचाई का बेहतर प्रतिशत है ?नहर योजना, नलकूप योजना, टैंक योजना के बारे में बताइए

By vinayias desk saf सिंचाई प्रणाली (Irrigation Systems) :नहर सिंचाईCanal systemकुएं व नलकूप (well/ Tubewell)तालाब (Tanks) भारत में सिंचाई प्रणाली :भारत एक कृषि प्रधान देश है और खाद्यान्न के लिए एक भारी जनसंख्या कृषि क्षेत्र...
Read more

Iron age & its significance

By vinayias desk saf Iron ageIron age refers to the age of that time period when men used the implements of iron. vinayiasacademy.comThe Iron Age was a period in history of human that started between...
Read more

मौर्य साम्राज्य के स्रोत का वर्णन करें। लघु शिलालेख ,वृहद शिलालेख स्तंभ शिलालेख, साहित्यिक साक्ष्य और पुरातात्विक साक्ष्य के आधार पर मौर्य साम्राज्य के बारे में बताएं

By vinayias desk मौर्य साम्राज्य का अध्ययन करने के लिए अशोक का शिलालेख सबसे प्रामाणिक स्रोत माना जाता है ।इसमें स्तंभ अभिलेख वृहद शिलालेख ,लघु शिलालेख एवं अन्य अभिलेख भी शामिल है। अशोक के अभिलेख...
Read more
1 2