0657-22-33331
102, Nisha Tower, 3rd Floor, Thakurbari road, Aam Bagan, Sakchi, Jamshedpur
support@vinayiasacademy.com

History

भारत पर अरबों का आक्रमण

1.भारत पर अरबों का आक्रमण कब हुआ ?इस आक्रमण से भारत को क्या क्या हानियां हुई वर्णन करें? 2.मोहम्मद बिन कासिम का इस आक्रमण में क्या योगदान था? 3.मोहम्मद गजनवी ने भारत में कब और कैसे आक्रमण किया वर्णन करें? 4.मोहम्मद गौरी के आक्रमण पर टिप्पणी दें तथा इससे  भारत पर क्या प्रभाव पड़ा इस […]

चोल वंश का शासन काल

1.चोल वंश की स्थापना किसने की थी और शासन काल की पद्धति कैसी थी? 2.इस की सांस्कृतिक उपलब्धियां कौन-कौन सी थी? 3.इसका उत्थान और पतन कैसे हुआ? चोल प्राचीन भारत का एक राजवंश था। जिसने दक्षिण भारत मैं शक्तिशाली शासकों के साथ मिलकर 9 वीं शताब्दी से 13 वीं शताब्दी के बीच एक अत्यंत शक्तिशाली […]

हर्षवर्धन के शासनकाल

1.हर्षवर्धन के शासनकाल के बारे में क्या जानते हैं? 2.हर्षवर्धन के शासनकाल में होने वाले विभिन्न प्रकार की उपलब्धियों का वर्णन करेंं. हर्षवर्धन का जन्म थानेसर वर्तमान हरियाणा मे हुआ था यह प्राचीन हिंदुओं के तीर्थ केंद्रों में से एक है । हर्षवर्धन को भारत का अंतिम हिंदू सम्राट कहा जाता है। उसके पिता का […]

गुप्त साम्राज्य का उदय( भाग-1)

गुप्त साम्राज्य का उदय गुप्त साम्राज्य का उदय तीसरी शताब्दी के अंत में प्रयाग के निकट कौशांबी में हुआ था जिस प्राचीनतम गुप्त राजा के बारे में पता चला है वह है श्री गुप्त हालांकि प्रभावती गुप्त के पुणे ताम्रपत्र अभिलेख में इसे आदिराज कहकर संबोधित किया गया है। यह प्राचीनतम भारतीय साम्राज्य था जो […]

मौर्योत्तर कालीन भारत तथा इंडो ग्रीक परिस्थिति(part-1)

मौर्योत्तर कालीन भारत तथा इंडो ग्रीक परिस्थिति:– Vinayiasacademy.com लगभग 2200 वर्षों पहले मौर्य साम्राज्य का पतन हो गया मौर्य वंश के पतन हो गया तथा शुंग वंश के साथ-साथ कई नए छोटे-छोटे राज्यों का भी होता है होना प्रारंभ हो गया था पश्चिमोत्तर में तथा उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में करीब एक सौ सालो […]

मौर्योत्तर कालीन भारत तथा इंडो ग्रीक परिस्थिति (part-2)

पुष्यमित्र शुंग अंतिम मौर्य नरेश ‌ बृहद्थ का प्रधान सेनानायक था इस के प्रारंभिक जीवन के बारे में कुछ जानकारी उपलब्ध नहीं है मगर दीव्यावदान के अनुसार उसे पुस्यधर्म का पुत्र बताया गया है। ज्ञात होता है कि 1 दिन बृहदरथ सेना का निरीक्षण कर रहा था उस समय पुष्यमित्र ने धोखे से उसकी हत्या […]

सम्राट अशोक

अशोक ने लगभग 36 वर्ष तक शासन किया इसके बाद लगभग 232 ईसा पूर्व में उसकी मृत्यु हुई इसके कई संतान तथा पत्नियां थी पर उनके बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है उसके पुत्र महेंद्र तथा पुत्री संघमित्रा नेबौद्ध धर्म के प्रचार प्रसार में काफी योगदान दिया था अशोक की मृत्यु के बाद मारे […]

सम्राट अशोक (273 से 232 ई पू)

सम्राट अशोक (273 से 232 ई पू):-सम्राट अशोक का वास्तविक नाम अशोक था इन्होंने अपनी उपाधि महान घोषित की थी ।सम्राट अशोक की विशेषताओं में सबसे महत्वपूर्ण साम्राज्यवादी युग में युद्ध नीति का परित्याग कर प्रजा को संतान के रूप में मानने वाला वह पहला विश्व सम्राट था। दीप वंश, दिव्यावदान, महा वंश, एवं महाबोधि […]

मौर्य साम्राज्य की विस्तृत जानकारी

मौर्य साम्राज्य की विस्तृत जानकारी:-छठी शताब्दी में महाजनपदों की शक्ति के बल पर मगर में मौर्य ने एक शक्तिशाली साम्राज्य जिसका नाम मगध था इस साम्राज्य की स्थापना की इस साम्राज्य की स्थापना का श्रेय मगध संस्थापक चंद्रगुप्त मौर्य और उनके मंत्री आचार्य कौटिल्य (चाणक्य) हो जाता है इतिहास में मौर्य साम्राज्य की महत्वपूर्ण भूमिका […]

Down load full notes and be successful in your Exams